Saturday, 18 July 2015

मेहनत का जहां में .. दूसरा सानी नही











मेहनत का जहां में .. दूसरा सानी नही             
है पसीना खून से बढकर कोई पानी नही
॰॰
भले  ही टूटता हो बदन उसका थकन से
अभी हारा नही है वो, हार उसने मानी नही
॰॰
सर झुका द्रोण का, श्रम था एक्लव्य का
हर किसी का मुकद्दर यहां खानदानी नही
॰॰
खारी पुरवाईयां, गहरी तनहाईयां सब ही हैं यहां
बस मीठे  चश्मे का ही नाम  जिन्दगानी नही
॰॰
   लक्ष्य से दूर हैं, लगते मजबूर हैं
   जब तलक  दिल मे हमने ठानी नही
हाथ थक जायेगा, चोट लग जायेगी
पर पानीयों पे तो तस्वीर बनानी नही


- जितेन्द्र तायल
   मोब. 9456590120

(स्वरचित) कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google

12 comments:

  1. सकारात्मक उर्जा से भरपूर ग़ज़ल।बहुत खूब सर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमन मित्रवर

      Delete
  2. बहुत सुन्दर और सकारात्मक सोच...

    ReplyDelete
  3. बहुत ख़ूब...सकारात्मक भाव

    ReplyDelete
  4. एकलव्य वाला शेर तो बहुत ही कमाल का है ... सभी शेर एक से बढ़ कर एक ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. साद्र आभार आदयणीय

      Delete
  5. प्रोत्साहित करती, जोश से भरी हुई रचना ।

    ReplyDelete