Tuesday, 16 June 2015

.......सोने खरे रहते है














जब तक हम लोगो के पैरों में पडे रहते है                
सच है की उनकी ही नजरों में गिरे रहते है
॰॰
फलदार होते है अक्सर जो झुकते है अदब से
छांव भी नही देते जो अकड कर खडे रहते है
॰॰ 
गैरत और अकड में अन्तर है बहुत थोडा सा ही
जाना जिसने भी, वो अपने पैरो पर खडे रहते है
॰॰ 
दिल जीत कर जिन्दा है गांधी आज भी यहां
जाने कितने हिटलर इस मिट्टी मे गडे रहते है
॰॰ 
घर छोड रोजी को, शहर में पीले गये हम
पेड से जो जुडे रहे, वो ही पत्ते हरे रहते है
॰॰ 
बदन पर हीरे जड कर नही आता कोई दुनिया में
पर जाने के बाद कुछ नाम तो हीरे से जडे रहते है
॰॰ 
सुना है हर जख्म भर देता है ये वक्त का मरहम
पर मरहम लगा भी हमारे जख्म क्यों हरे रहते है
॰॰ 
झुलस कर काले हो गये है आग मे पड कर सब
और चमक कर निखरते है जो सोने खरे रहते है


जितेन्द्र तायल
मोब. 9456590120

(स्वरचित) कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google इस ब्लॉग के अंतर्गत लिखित/प्रकाशित सभी सामग्रियों के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं। किसी भी लेख/कविता को कहीं और प्रयोग करने के लिए लेखक की अनुमति आवश्यक है। आप लेखक के नाम का प्रयोग किये बिना इसे कहीं भी प्रकाशित नहीं कर सकते। कॉपीराईट © 1999 – 2015 Google

27 comments:

  1. हर शेर कुछ संदेश देता हुआ।खूबसूरत ग़ज़ल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18 - 06 - 2015 को चर्चा मंच पर नंगी क्या नहाएगी और क्या निचोड़ेगी { चर्चा - 2010 } पर दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. दिल जीत कर जिन्दा है गांधी आज भी यहां
    जाने कितने हिटलर इस मिट्टी मे गडे रहते है ..
    जबरदस्त ... बहुत ही प्रभावी बन पड़े हैं सब शेर ... कुछ न कुछ गहरी बात कहते हुए ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया मित्र वर

      Delete
  4. बेहतरीन अभिब्यक्ति , मन को छूने बाली पँक्तियाँ

    कभी इधर भी पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आदरणीय
      आपकी गजलो के तो हम पहले से ही मुरीद है

      Delete
  5. गैरत और अकड का अंतर खूब बताया.
    अच्छी गज़ल!

    ReplyDelete
  6. उतसाह वर्धन के लिये बहुत आभार आदरणीया

    ReplyDelete
  7. बदन पर हीरे जड कर नही आता कोई दुनिया में
    पर जाने के बाद कुछ नाम तो हीरे से जडे रहते है
    इतना लाजवाब लिखा है कुछ कहने के लिए नहीं छोड़ा
    आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमन आदरणीया

      Delete
  8. दिल जीत कर जिन्दा है गांधी आज भी यहां
    जाने कितने हिटलर इस मिट्टी मे गडे रहते है...वाह! बहुत ख़ूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया मित्रवर

      Delete
  9. वाह बहुत बेहतरीन ...

    ReplyDelete
  10. बेहद खूबसूरत गज़ल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आदरणीया

      Delete
  11. प्रभावी हैं सब शेर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया मित्र वर

      Delete
  12. सब बातें गहरी हैंं। सुन्‍दर।

    ReplyDelete